Delhi: Two arrested in Rs 55 lakh financial institution heist, Delhi Information in Hindi

0
7

1 of 1





नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने शाहदरा इलाके की एक बैंक शाखा में सेंध लगाने और करीब 55 लाख रुपये लेकर भागने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके कब्जे से हथौड़ा, छेनी और हेलमेट भी बरामद किया।

पुलिस के अनुसार, सोमवार को एक निमार्णाधीन इमारत की दीवार तोड़कर ये लोग यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में घुसे और करीब 55 लाख रुपये लेकर फरार हो गए।

दोनों ने कथित तौर पर बगल के निर्माणाधीन भवन से बैंक के सर्वर रूम में प्रवेश किया था।

बाद में बैंक मैनेजर ने पुलिस को मामले की सूचना दी, जिसके बाद जांच शुरू की गई।

अतिरिक्त डीसीपी निशांत गुप्ता और एसीपी राजेश मीणा के नेतृत्व में एक टीम का गठन घटनास्थल के आसपास और पिछले तीन महीनों के सीसीटीवी फुटेज एकत्र करने और उनका विश्लेषण करने के लिए किया गया।

इस बीच निर्माणाधीन भवन के बगल में स्थित एक एटीएम के पास लगा एक सीसीटीवी कैमरा संदिग्ध पाया गया।

जांच के दौरान पता चला कि सीसीटीवी कैमरे से छेड़छाड़ की गई है। इस लीड पर काम करते हुए पता चला कि पहली मंजिल से किसी ने कैमरे से छेड़छाड़ की है।

पुलिस ने कहा कि इसके तुरंत बाद पता चला कि बैंक के पास रहने वाला हरि राम उस इमारत के एक कार्यवाहक का दोस्त था, जहां सीसीटीवी कैमरा लगाया गया था।

बाद में हरि राम को गिरफ्तार कर लिया गया और लगातार पूछताछ के दौरान उसने बताया कि छह महीने पहले उसे स्ट्रांग रूम में मरम्मत कार्य के लिए बैंक में बुलाया गया था।

जीर्णोद्धार के दौरान, उन्होंने जगह की विस्तृत जांच की और नकदी और संभावित प्रवेश और निकास मार्गों के बारे में सभी जानकारी जुटाई।

उसने आगे खुलासा किया कि उसने पिछले तीन महीनों से इस पैसे की लूट की योजना बनाई थी, लेकिन आगे नहीं बढ़ सका। उसने मालिक द्वारा लगाए गए पिछले ताले को हटाकर निर्माणाधीन भवन में प्रवेश लिया और उसे उसी तरह के ताले से बदल दिया।

मौका मिलते ही वह पहले निर्माणाधीन इमारत के अंदर घुस गया और फिर बैंक में घुस गया। उसने अपने मित्र काली चरण को डकैती में शामिल किया।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने चोरी की अधिकांश नकदी बरामद कर ली है और आगे की जांच जारी है। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें – अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे



Supply hyperlink

Leave a Reply